Crickets herald Fall… Jhingur Bole Cheeki-Meeki

Crickets herald the onset of Fall… Jhingur Bole Cheeki-Meeki…

Well, remember this song from the film “Usne Kahaa Tha” (1961)? With lyrics written by Shailendra ji, and some fabulous music by Salil Chowdhury, this is one of my most favorite songs from Hindi Cinema. Lata Mangeshkar and Talat Mahmood sing off-screen, while a charming Nanda, and the youthful Sunil Dutt sing with abandon on the silver screen.

Think of the monsoons, and even during hot summers, crickets make an immense racket come nightfall… We don’t quite hear those in the cities, but if you’ve ever had the opportunity to spend summer holidays in rural India, I think, you could not have missed this sound especially come evening.

Not just in the wet monsoons of India, but even in the west, crickets must be singing now. Heralding the onset of Fall in the US, Jhingur sounds must be audible.

Usne Kaha Tha | 1961 | Salil Chowdhury | Shailendra | Lata Mangeshkar, Talat Mahmood

आ हा
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आयी रात सुहानी देखो प्रीत लिये
मीत मेरे सुनो ज़रा हवा कहे क्या आ
सुनो तो ज़रा, झींगर बोले
चीकी-मीकि चीकी-मीकि
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये

आ हा
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आयी रात सुहानी देखो प्रीत लिये
मीत मेरे सुनो ज़रा हवा कहे क्या आ
सुनो तो ज़रा, झींगर बोले
चीकी-मीकि चीकी-मीकि
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये

खोयी सी भीगी भीगी रात झूमे
आँखों में सपनों की बारात झूमे
खोयी सी भीगी भीगी रात झूमे
आँखों में सपनों की बारात झूमे
दिल की ये दुनिया आज
बादलों के साथ झूमे
आ हा
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आयी रात सुहानी देखो प्रीत लिये
मीत मेरे सुनो ज़रा हवा कहे क्या आ
सुनो तो ज़रा, झींगर बोले
चीकी-मीकि चीकी-मीकि
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आ हा हा
आ हा हा

आ जाओ दिल में बसा लूँ तुम्हें
आँखों का कजरा बना लूँ तुम्हें
आ जाओ दिल में बसा लूँ तुम्हें
आँखों का कजरा बना लूँ तुम्हें
ज़ालिम ज़माने की निगाहों से छुपा लूँ तम्हें

आ हा
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आयी रात सुहानी देखो प्रीत लिये
मीत मेरे सुनो ज़रा हवा कहे क्या आ
सुनो तो ज़रा, झींगर बोले
चीकी-मीकि चीकी-मीकि
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये

हाथों में मेरे तेरा हाथ रहे
दिल से जो निकली है वोह बात रहे
हाथों में मेरे तेरा हाथ रहे
दिल से जो निकली है वोह बात रहे
मेरा तुम्हारा सारी ज़िन्दगी का साथ रहे

आ हा
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आयी रात सुहानी देखो प्रीत लिये
मीत मेरे सुनो ज़रा हवा कहे क्या आ
सुनो तो ज़रा, झींगर बोले
चीकी-मीकि चीकी-मीकि
रिम-झिम के ये प्यारे-प्यारे गीत लिये
आ हा हा
आ हा हा

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s